Article Post

मंगलवार, 30 जुलाई 2019

पेन ड्राइव से Data transfer की गति बढाने के अदभुत टिप्स | Data transfer ko hindi me speed kaise badaye

  पेनड्राइव(Data transfer)डाटा ट्रांसफर की गति बढाने के अदभुत टिप्स

Pen drive data transfer
Pen drive data transfer

 

 

तुरंत Data transfer  करने के लिए Pen Drive आज एक लोकप्रिय डिवाइस बन चुका हैं। Pen drive यानि यूएसबी ड्राइव की सहायता से बड़ी फाइलों को भी पीसी से पीसी, पीसी से लैपटाॅप, लैपटाॅप से टीवी तथा इसके विपरीत आसानी से ट्रांसफर कर सकते हैं। कुछ ही सेकंड में गीगाबाइट मात्रा में डाटा को पलक झपकते ही Data transfer  किया जा सकता है।


अब स्टोरेज डिवाइसेज में काफी विकास हो चुका है और आज Pen Drive में बड़ी तेज स्पीड से डाटा ट्रांसपर होता है। यदि आप कुछ खास बातों का ध्यान रखे तो पेनड्राइव की Data transfer  की रफ्तार को बढाया जा सकता है। किंतु ध्यान रखे कि पेनड्राइव के कुछ  कारक डाटा  ट्रांसफर की दर के लिए उत्तरदायी होते हैं।


जैसे कि जैसे-2 Pen drive पुरानी होती जाती  है उसकी Data transfer  दर धीमी होती जाती है। दूसरे एप्लीकेशन फाइले ट्रांसफर होने में ज्यादा समय लेते है जबकि गानों, वीडियो और डाॅक्युमेंटस की फाइले जल्दी ट्रांसफर होती हैं. तीसरे यूएसबी का 2.0 वर्जन तेज गति से Data transfer  करता है।


यदि आप भी अपने पेनड्राइव डाटा ट्रांसफर दर को बढाना चाहते है तो निम्न बातो का ध्यान रखे-

फाइल सिस्टम NTFS हो 

 

Pen Drive की स्पीड़ बढाने के लिए NTFS फाइल सिस्टम होना चाहिए। इसके लिए पेनड्राइव पर राइट क्लिक करें > format को सिलेक्ट करें > NTFSC file system सिलेक्ट करें > quick format को अनचेक करें> Start पर क्लिक करें।

Disk Error को ठीक करें -  Disk Error को जांचने के लिए पेनड्राइव के Propertise टैब पर जाएं > Tools टैब सिलेक्ट करें > Check now बटन आने पर उसे क्लिक करें > Error को ठीक करने के लिए Start को हिट करें।


Device Policy - Pen dri्रve पर राइट क्लिक कर प्राॅपर्टीज पर जाएं > hardware tab सिलेक्ट करें > USB device सिलेक्ट करें जिसके बाद पाॅपअप विंडो दिखाई देगी>  यहीं पर आप Setting को  change कर सकेंगे > चाहे तो हार्डवेयर टैब के अंतर्गत दिए गए आँप्शन पर क्लिक करके आप पेनड्राइव की स्पीड बढ़ा सकते हैं।


Format -

इस असरदार आँप्शन को कई यूजर्स उपयोग करते हैं खासतौर पर लंबे समय से पेनड्राइव का उपयोग कर रहे है तो उसे फारमेट किया जाना चाहिए। इस टिप्स और ट्रिक्स को हर दो तीन महीन में अवस्य आजमाना चाहिए। 


कीबोर्ड  keyboard का इस्तेमाल करें माउस की तरह 

 

अक्सर ड्राइवर्स के करप्ट हो जाने पर माउस काम करना बंद कर देता हैं। किंतु विंडोज में डिवाइस के ड्राइवर्स के करप्ट हो जाने को अनदेखा न करें क्योकि यह गंभीर समस्या पैदा कर सकती हैं। ऐसी ही समस्या के कारण कभी कभी माउस भी काम करना बंद कर देता हैं और ड्राइवर्स को अनइंस्टाॅल करके भी माउस काम नहीं करता हैं। ऐसे में यदि कोई आवश्यक काम हो तो कीबोर्ड को माउस की तरह इस्तमाल किया जा सकता हैं।


  • आपको बता दें कि विंडोज ओएस में ओएस में माउस में कीज् option इनबिल्ट होता है किंतु ज्यादा लोग इस बात से अनजान रहते हैं कि माउस की को बड़ी ही सरलता से इनेबल या डिसेबल किया जा सकता है।
  • Alt+shift+numlock कीज् जो एक साथ दबाकर इनेबल कर सकते हैं। आप जैसे ही यह करते हैं नीचे एक डायलाॅग बाॅक्स प्राम्ट करता दिखाई देगा। बस उस पर Yes कर दें।
  • किंतु सुनिश्चित करें कि जब आप कीबोर्ड को माउस की तरह उपयोग करें तो numlock आँफ हो। इसके बाद आपकी टास्कबार पर mousekey icon दिखाई देगा जिसका तात्पर्य हैं कि सारी प्रक्रिया सेट हो चुकी हैं।
  • कंट्रोलर के रूप में आप नंबर 8 को मूवअप, 2 को डाउन, 4 को लेफ्ट और 6 को राइट मूव के लिए उपयोग कर सकते हैं।
  • साथ ही साथ थर्ड पार्टी प्रोग्राम NeatMouse का भी उपयोग कर सकते हैं।यह एक पोर्टेबल साॅफ्टवेयर है।
  • इसका इस्तेमाल करने का मुख्य लाभ यह है कि यह अतिरिक्त आँप्शंस के कारण आपको बेहतर नियंत्रण स्थापित करने में मदद  करता हैं। इसमे आपकी सुविधा के लिए Remap controller Key का Option भी होता है।
  • किंतु कीबोर्ड मुक्त तौर पर उपयोग करने और सहायक होने के बाद भी अधिकतर यूजर्स इसे लंबे समय तक उपयोग नहीं करना चाहते हैं किंतु शार्ट टर्म के लिए यह एक अचछा विकल्प हैं। 
 


Data Transfer faster using Pendrive


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

In Feed